Total Pageviews

Blog Archive

मेरी नजर से

Monday, June 6, 2011

भ्रष्टाचार-उन्मूलन

 



इन दिनों मीडिया तथा कुछ लोग खूब हो-हल्ला मचा रहे हैं कि योग-गुरु "बाबा रामदेव" का भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज बुलंद करना; एक राजनीतिक चाल का हिस्सा अथवा एक स्वार्थपरक कृत्य है. मैं प्रस्तुत कविता के माध्यम से इसका विरोध करता हूँ..
********************************
                       
                  कोई अनशन करता, भूखा मरता;                                       
                    कोई घर बैठा, मौज मनाता है;
                   तह तक जा कर देखो गर ,
                     तब मर्म समझ में आता है....

                  मित्र हो भूले तुम मानवता,
                    यह बेरुखी कैसी है;
                 जब बलिदान का अवसर आया,
                   पलटी मति जो ऐसी है....

                 क्रूरता-भय-आतंक-दमन;
                 नहीं चलेंगे भारत में;
                 सत्पुरुषों को आज नमन,
                  अभय रहे जो भारत में.....

                 साधु-सज्जन-संतों से जो,
                   बेकार में उलझा करते हैं;
                वे मूढ़मति विकराल काल को ,
                    स्वयं निमंत्रित करते हैं....



                 दंड मिले उन दुष्टों को,
                 वैभव दीनों का हरण किया;
                 सूखी रोटी को तरसे जन,
                 तब मखमल पर शयन किया...

                 वह धन-गौरव-सम्पदा हमारी,
                  मेहनत की सारी पूंजी है;
                वापस लाने की अब तैयारी,
                 वह विकास की कुंजी है......!!

              स्वार्थ-कूप से बाहर आओ,
               स्वच्छ वतन के वसन रहें;
               देश-प्रेम का भाव जगाओ,
                तब खुशहाली अमन रहें.......!