Total Pageviews

Blog Archive

मेरी नजर से

Tuesday, October 25, 2011

आई दीवाली




       देखो दीवाली आई आज,
       हर्षित नगर-ग्राम-समाज,
       छुट्टी पर दैनिक काम-काज,
        देखो दीवाली आई आज....




   बहती उल्लासमयी रसधार,
    घोली उमंगों ने निखार,
     गुन-गुन गाती 'बौराई' बयार,
       घर-घर पहुँची 'उजली' बहार.... 




                               जगमग-जगमग संसार लगे,
                     बल्ब-ट्यूब नव-दीप जले,
                     दुःख-दर्द-अंधेरे भाग चले,
                     सुख-शान्ति-सवेरे खिले-खिले...



'बाती' दीये की सहचरी,
जलती पल-भर भी ना डरी,
सद्-भाव समर्पण से भरी,
पर-हित को प्रेरित करे परी.... 






                  छुटके फुलझडियाँ जला रहे,
            बड़े, रॉकेट-बम चला रहे,
            दीपों की लड़ियाँ सजा रहे,
            मन स्वर्णिम घड़ियाँ बसा रहे....







                       

                                                               
                                                          
                    मोदक-बर्फी-रसगुल्ले अब,
                     प्लेटें लायीं, नई-नवेली छब,
                                      कहो छुटपन धरता धीरज कब,
                                        चट-पट चट जाते बालक सब....



                                                       




        दाता दीपक ना मुरझाए,
        माता धन-वैभव ना जाए,
         आनंदोत्सव यों लहराए,
         जन-मन झूमें, नाचे-गाएँ....!!


Tuesday, October 18, 2011

ख़्वाबों की परी






एक नशा दिल पे जैसे छा जाए,
जब कभी आपका ख़याल आए...





सामने हुस्न के, चाँदनी भी जले,
जब भी आए, आपकी मिसाल आए





जिंदगी स्याह, काली बेरंग थी,

आप आए तो, रंग-गुलाल आए....





कोई मकसद नहीं, वजह ना थी,


क्यों जिएँ, ऐसे कुछ सवाल आए...








नूर तुमसे है, सादगी तुमसे,                                     जादूगर, फन ये तुमको, कमाल आए.....!!

Friday, October 14, 2011

प्रणय-सूत्र

दबे पाँव चुपके हवा पास आई,
लगा वो तुम्हारा संदेशा हो लाई;

झोली थी खाली, झलक कोई ना थी;            
न आहट, न खुशबू , खबर कोई ना थी....

  

जो पूछा पता, चाँद की चाँदनी से;
वो बोली ना जानूँ, मैं इस रौशनी को;

खिड़की के पल्ले, किए बंद तुमने
या शायद सखी को जलाया हो तुमने....








उषा क्या, निशा भी, तुम्हें ना बताए;
  उलझन हमारी सुलझ कैसे पाए;

   बादल तो रूठे, बारिश भी झूठी;
    पल-पल अगन बन, तन-मन
       जलाए....






कोई रास्ता हो जो तुमसे मिलाए,
 तो हँसकर बढ़ेंगे, झुकेंगी बाधाएँ;

तले अपने दाँतों के उंगली दबाए;
  दिशाएँ चकित, चूम लेंगी
       हवाएँ....







   ये बगिया महकती,
      "बहार" तुम जो आती; 
   
उमंगें चहकतीं,
        तुम्हें घेर गातीं;
   
 नयन प्यासे मिलते,
        प्रणय-पुष्प खिलते;
    कई दीप चाहत के
                                                                 मुस्काते-जलते....