Total Pageviews

Blog Archive

मेरी नजर से

Saturday, May 7, 2011

आतंकवाद

                
                        
                        आतंक के साम्राज्य में, बेचारी मानवता रोती,
                          भार ऐसे कुकृत्यों का, कैसे वसुधा यह ढोती...


 भाई आपस में लड़ते हैं,
  लड़-लड़, कट-कट कर मरते हैं;
   गुल्शन में आग लगाते हैं,
     मूढ़ हैं, संसार जलाते हैं....


                
                    मानव को मानव समझें सब,
                  विधि की सर्वोत्तम रचना है;
                आतंकवाद इस लोक की सबसे,
                     करुण-दुखद-दुर्घटना है....





 प्रतिकार करें, आवेश क्षणिक ये,
   सुख-स्वप्नों को, भस्म करे;
    गहन-मनन-चिंतन हो तब,
     संगठित सभी प्रयत्न करें.....



       
         बंधुत्व-एकता-मंत्र प्रबल,
           मांग समय की भाई;
            समझो गर हम हुए सफल,
              धरती पर जन्नत पाई.....!!


1 comment:

डॉ॰ मोनिका शर्मा said...

सुंदर सार्थक विचार रोहित ........पर हम सब समझें तो ...