Total Pageviews

Blog Archive

मेरी नजर से

Monday, June 6, 2011

भ्रष्टाचार-उन्मूलन

 



इन दिनों मीडिया तथा कुछ लोग खूब हो-हल्ला मचा रहे हैं कि योग-गुरु "बाबा रामदेव" का भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज बुलंद करना; एक राजनीतिक चाल का हिस्सा अथवा एक स्वार्थपरक कृत्य है. मैं प्रस्तुत कविता के माध्यम से इसका विरोध करता हूँ..
********************************
                       
                  कोई अनशन करता, भूखा मरता;                                       
                    कोई घर बैठा, मौज मनाता है;
                   तह तक जा कर देखो गर ,
                     तब मर्म समझ में आता है....

                  मित्र हो भूले तुम मानवता,
                    यह बेरुखी कैसी है;
                 जब बलिदान का अवसर आया,
                   पलटी मति जो ऐसी है....

                 क्रूरता-भय-आतंक-दमन;
                 नहीं चलेंगे भारत में;
                 सत्पुरुषों को आज नमन,
                  अभय रहे जो भारत में.....

                 साधु-सज्जन-संतों से जो,
                   बेकार में उलझा करते हैं;
                वे मूढ़मति विकराल काल को ,
                    स्वयं निमंत्रित करते हैं....



                 दंड मिले उन दुष्टों को,
                 वैभव दीनों का हरण किया;
                 सूखी रोटी को तरसे जन,
                 तब मखमल पर शयन किया...

                 वह धन-गौरव-सम्पदा हमारी,
                  मेहनत की सारी पूंजी है;
                वापस लाने की अब तैयारी,
                 वह विकास की कुंजी है......!!

              स्वार्थ-कूप से बाहर आओ,
               स्वच्छ वतन के वसन रहें;
               देश-प्रेम का भाव जगाओ,
                तब खुशहाली अमन रहें.......!



5 comments:

SACCHAI said...

" damdaar likhavat ...sacchai aur samj bhari ..aaj ke daur me hai isiki jaroorat ..

badhai dost ..is rachana ko salam

ROHIT BHUSHAN said...

धन्यवाद आपका

BrijmohanShrivastava said...

आपके तीन लेख पढे। मेरे शहर आरा ,बाबा और भ्रष्टाचार । क्रूरता भय आतंक दमन चारो शब्दों का बिलकुल सही जगह उपयोग किया गया है। सूखी रोटी को तरसे जन और मुलायम गददों का आनंद ले रहे है। बहुत अच्छी लगी कविता।

इन्हौने देखे ही नहीं भूख से लडते इन्सां स्वार्थ कूप में पडे रहे
भ्रष्टाचार न खत्म करेंगे ऐसी जिद पर अडे रहे

neelima sukhija arora said...

अच्छा लिखा है आपने

pawan singh said...

are hamara engineer dost itani acchi kavitayen likhata h. Muje pata nahi tha.