Total Pageviews

Blog Archive

मेरी नजर से

Friday, December 30, 2011

नए वर्ष तुम आए

                        दस्तक देता दरवाजे पर, यह कौन अतिथि आया;
                            घने कोहरे से झाँका तो, वह अजनबी मुसकाया;

                           राम-रहीम हुई उससे, मैंने भीतर बैठाया,
                        चाय पियोगे या कॉफी, मैंने आतिथ्य निभाया;


देवदूत-सी आभा मुख पर, "नव-वर्ष" नाम बतलाया,
                       झोली में समेट कई सौगातें, वह अलबेला लाया;
                    झट एक पिटारा खोल, जादूगर ने करतब दिखलाया,
                     आशाएँ खिल उठीं, जगी उमंगें; जीवन निखरा हर्षाया;
 


ScrapU

वह चेतना-वाहक, सृजनशील मन-भाया,
       निष्पक्ष निरीक्षक जिसने, नित कर्म-मार्ग दिखाया;

          स्वच्छंद विहग-सा मन उड़ता, नूतन आकाश है पाया,
                स्वर संवरे, उल्लास जनित; इक गीत नया-सा गाया ...!!

Saturday, December 24, 2011

रुपहली रात




                                            तारे चमकेँ, जुगनू दमकेँ; चंदा की बारात,
                              आँखेँ मलके, दुनिया देखे, सजी रुपहली रात...!!


                     

डोली से चाँदनिया झाँके,
    चोरी-से चुपके मुख ढाँपे;

मुस्कान मिली सौगात;
    सजी रुपहली रात....!!




ओस-वृष्टि, आशीष झरे;
माणिक-मोती सम बिखरे,

          युगोँ-युगोँ का साथ,
        सजी रुपहली रात...!!

      
      महक-बहक हवा चली,
          सखी दुल्हन की मनचली;

       
                  कानोँ मेँ कह वह बात,
                    सजी रुपहली रात....!!




                गगन मगन, मधुर मिलन,
               पुलक उठा, भरे नयन;


                  
                   उमंग नए जज्बात,
               सजी रुपहली रात....!!
   





                  मुग्ध धरा यह दृश्य देख,
           रोमांचित-सी, हर्षातिरेक;

                चमके डाली हर पात,
                सजी रुपहली रात...!!