Total Pageviews

Blog Archive

मेरी नजर से

Sunday, May 22, 2011

मेरा शहर आरा

********************
आरा से है, लगाव पुराना,
  फिर भी मुझे, अलगाव निभाना;



भूल गया मैं, घर क्या होता,
  परदेस में जब, कभी ये मन रोता;

 

पगले को आस बंधाता हूँ,
ढाढस दे, चुप करवाता हूँ;


  उस नगरी में, तब आयेंगे, 
   जब पढ़-लिख, कुछ बन जायेंगें;
 

संकल्प ये दृढ़, विश्वास अटल, 

एक दिन अवश्य, हम होंगे सफल;





आशा है, राहें सजी मिलेंगी,
  स्वजनों की खुशियाँ छलकेंगी;



                     तब सबके गले मिलेंगे हम,
                      यादें ताज़ी कर लेंगे हम;





स्नेह-दीप तुम उस दिन तक,
 जलता हुआ ही रखना;
                     









  बाग यदि मुरझाएं भी,
 इक फूल खिलाए रखना..!
**********************       






                                                                                       

2 comments:

नुक्‍कड़ said...

बहुत सुंदर चित्रमय कविताएं

pawan singh said...

apki kavitaon ne ghar ki yaden taja kar din.