Total Pageviews

Blog Archive

मेरी नजर से

Friday, May 6, 2011

नव वर्ष


आँखों में सपनों की प्यारी,
इक बारात सजाई है;
साल नए, तुम जल्दी आना,
पलकें कब से बिछाई हैं....

                    झोली में खुशियाँ भर लाना,
                    आशा की किरणें बिखराना;
                    जादुई पिचकारी लेकर,
                    जीवन में रंग बरसाना....

हर चेहरे पर मुस्कानों की,
रंगत नई सजा देना;
सबके होंठों पर अरमानों की,
धुन मीठी-सी ला देना...

                     कहो कभी मुश्किल में हूँ गर,
                     तब तुम साथ तो दोगे ना;
                     दुबे कश्ती मझधारों में जब,
                     पतवार मेरी थामोगे ना....

दृढ़ विश्वास हमारे हों,
धृति,परिश्रम सारे हों;
नव-गाथा के पृष्ठों पर,
अब हस्ताक्षर तुम्हारे हों....

                     ज्ञान-ज्योति प्रज्वलित रहे,
                     स्वर अपने मुखरित रहें;
                     संशय के भीषण वन में भी,
                     जिजीविषा जीवित रहे....

No comments: