Total Pageviews

Blog Archive

मेरी नजर से

Friday, May 6, 2011

होली है


रंग की भाषा, रंग की बोली,
नाम इसी का होली है;
झूमे अबीर-गुलाल संग टोली,
प्रीत की पावन डोली है....

                फागुन की बरात रंगीली,
                  रुत मतवाली, बड़ी नशीली;
                     भोर किरण करती अठखेली,
                       दुल्हन-सी धरा, नई-नवेली....

मीठी कोयल की बोली,
 कहती कू-कू कर होली है...

रंग की भाषा, रंग की बोली,
 नाम इसी का होली है......


            पिचकारी से खुशियाँ बह निकलीं,
              हर दिल के दर तक जाएंगीं;
                मौका पाते ही चुपके से,
                  कोने में इक समाएँगी....

रंग रिश्तों का छूटे ना,
 पैगाम यही तो होली है....

झूमे अबीर-गुलाल संग टोली,
 प्रीत की पावन डोली है....

No comments: