Total Pageviews

Blog Archive

मेरी नजर से

Friday, May 6, 2011

मिलन-वेला

उनसे मिलन की घडी सुहानी,
आ ही गई वो रूत मस्तानी;
बेताबी अपनी बढती जाए;
धडकन बनी दीवानी......

                         नयनों से ही बात बढ़ी है,
                         एक कड़ी दरम्याँ जुड़ी है;
                         राह नयी सौगात मिली है,
                         हम दोनों के लिए सजी है..

गीत प्रीत के पंछी गाएँ,
बनी तारों की जुबानी....

                          दूर अगन अब, प्रेम-मगन हम,
                          सरस-स्वप्न हुए साझे,
                          प्रेम-पुष्प सब, खिले नवल-दल;
                          प्यारे सारे ही हमारे..

हर तरंग में, हर सुगंध में,
बसी बस यही कहानी...


                          सघन गगन का छोर जहाँ है,
                          प्यार परे, उस ओर बढ़ा है;
                          बादल का जयघोष हमारा,
                          दूर-दूर तक फ़ैल गया है..

प्रेम-सुधा, वर्षा बरसाए,
छेड़, करे मनमानी....!!

No comments: