Total Pageviews

Blog Archive

मेरी नजर से

Friday, May 6, 2011

भोर

                                                                                                                                                                        
आज धरा के पावन आँगन,
फिर से उषा मुस्काई है;

किरणों की सौगात से रौशन,
डाली-डाली लहराई है...
                                   
झूम गई अमवारी अपनी,
फुलवारी भी निखर गई;

     तितली रानी, कोकिला सयानी;
                  इतरा-इतरा शरमाई हैं
...                                 

                                                                               
निर्मल-नभ का नीला रंग है,   
और सुनहली धूप का संग है;  
सरिता के तन-मन को छूती,  
प्यारी पवन बड़ी भायी है...  









हृदयों में उल्लास जगा,
आशाओं का संचार हुआ;
दूर वो दुनिया पास बुलाती,
मन की मिटी तन्हाई है...!!



किरणों की सौगात से रौशन,
डाली-डाली लहराई है...

No comments: