Total Pageviews

Blog Archive

मेरी नजर से

Friday, May 6, 2011

यादों के पल




  हम खेतों-से,खलिहानों से;
  और हरे मैदानों से,


  खट्टी-मीठी अमवारी से;
  नीली-पीली फुलवारी से...

फिर उधर जरा चलें...




       
कभी लिपटे हम धूलों में,
और झुले कभी झूलों में;


लुके-छिपे उन खेलों में,
पले-पढ़े उन मेलों में..

संगों में रंग भरें...





               हम लोरी के बोलों में,
          और किस्सों अलबेलों में,


          रसगुल्लों-बर्फी-केलों में,
           चाट-पकोड़े-ठेलों में..

            यादों के स्वाद चखें....
         


धारा से लड़ते हुए बढे,
बाधाएँ हरते हुए चले,


उन्मुक्त अनेक उड़ान भरे,
स्वछ्न्दों से तूफ़ान डरे....

अब वही उमंग भरें...



                                                          

No comments: