Total Pageviews

Blog Archive

मेरी नजर से

Tuesday, October 25, 2011

आई दीवाली




       देखो दीवाली आई आज,
       हर्षित नगर-ग्राम-समाज,
       छुट्टी पर दैनिक काम-काज,
        देखो दीवाली आई आज....




   बहती उल्लासमयी रसधार,
    घोली उमंगों ने निखार,
     गुन-गुन गाती 'बौराई' बयार,
       घर-घर पहुँची 'उजली' बहार.... 




                               जगमग-जगमग संसार लगे,
                     बल्ब-ट्यूब नव-दीप जले,
                     दुःख-दर्द-अंधेरे भाग चले,
                     सुख-शान्ति-सवेरे खिले-खिले...



'बाती' दीये की सहचरी,
जलती पल-भर भी ना डरी,
सद्-भाव समर्पण से भरी,
पर-हित को प्रेरित करे परी.... 






                  छुटके फुलझडियाँ जला रहे,
            बड़े, रॉकेट-बम चला रहे,
            दीपों की लड़ियाँ सजा रहे,
            मन स्वर्णिम घड़ियाँ बसा रहे....







                       

                                                               
                                                          
                    मोदक-बर्फी-रसगुल्ले अब,
                     प्लेटें लायीं, नई-नवेली छब,
                                      कहो छुटपन धरता धीरज कब,
                                        चट-पट चट जाते बालक सब....



                                                       




        दाता दीपक ना मुरझाए,
        माता धन-वैभव ना जाए,
         आनंदोत्सव यों लहराए,
         जन-मन झूमें, नाचे-गाएँ....!!


2 comments:

Shah Nawaz said...

दीपोत्सव पर हार्दिक शुभकामनाएं !

"आइये प्रदुषण मुक्त दिवाली मनाएं, पटाखे ना चलायें"


दीपावली का आया है त्यौहार शब-ओ-रोज़

Sunil Kumar said...

दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें एवं बधाई