Total Pageviews

Blog Archive

मेरी नजर से

Tuesday, October 9, 2012

स्कूल की यादें




इस आँगन में खेले हमने, जाने कितने खेल,
धमाचौकड़ी, छुआ-छुई से चोर-सिपाही-रेल...

सैर सुहानी, रुत मस्तानी; खूब चली वह नाव, 

अब याद आती झोंकों वाली, मीठी शीतल छाँव...

कोरे कागज़ के पन्नों पर, गीत मधुर जीवन के,

रचे गए सब यहीं उजाले, स्नेह-सुमन उपवन के...

आशीषों की पुण्य धार में , भींग सींचे हैं सरसे,

तार-तार, कण-कण मेरे, सौभाग्य-सजीले हरषे...

वह स्वच्छंद उड़ान, होठों की मुस्कान,



नहीं मिटेंगे मन-क्यारी से, बीजों के ये निशान...

No comments: