Total Pageviews

Blog Archive

मेरी नजर से

Saturday, December 24, 2011

रुपहली रात




                                            तारे चमकेँ, जुगनू दमकेँ; चंदा की बारात,
                              आँखेँ मलके, दुनिया देखे, सजी रुपहली रात...!!


                     

डोली से चाँदनिया झाँके,
    चोरी-से चुपके मुख ढाँपे;

मुस्कान मिली सौगात;
    सजी रुपहली रात....!!




ओस-वृष्टि, आशीष झरे;
माणिक-मोती सम बिखरे,

          युगोँ-युगोँ का साथ,
        सजी रुपहली रात...!!

      
      महक-बहक हवा चली,
          सखी दुल्हन की मनचली;

       
                  कानोँ मेँ कह वह बात,
                    सजी रुपहली रात....!!




                गगन मगन, मधुर मिलन,
               पुलक उठा, भरे नयन;


                  
                   उमंग नए जज्बात,
               सजी रुपहली रात....!!
   





                  मुग्ध धरा यह दृश्य देख,
           रोमांचित-सी, हर्षातिरेक;

                चमके डाली हर पात,
                सजी रुपहली रात...!!

4 comments:

संतोष कुमार said...

वाह बहुत सुंदर रचना


आभार !!

मेरी नई रचना ( अनमने से ख़याल )

NISHA MAHARANA said...

ओस-वृष्टि, आशीष झरे;
माणिक-मोती सम बिखरे,


युगोँ-युगोँ का साथ,
सजी रुपहली रात...!!very nice.

ana said...

bahut hi sndar tarike se prastut kiya hai apne ....badhiya

vibha rani Shrivastava said...

मंगलवार 18/03/2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
आप भी एक नज़र देखें
धन्यवाद .... आभार ....